Friday , 10 May 2019
Beautiful inspirational messages great meaning by Pablo Neruda
Home » Inspirational Story » Good Hindi Short Motivational Stories – पंडित और कंडक्टर – Hindi Kahani

Good Hindi Short Motivational Stories – पंडित और कंडक्टर – Hindi Kahani

एक नगर मे रहने वाले एक पंडित जी की ख्यातिदूर दूर तक थी पास ही के गाँव मे स्थित मंदिर के पुजारी का आकस्मिक निधन होने की वजह से उन्हें वहाँ का पुजारी नियुक्त किया गया था…

एक बार वह अपने गंतव्य की और जानेके लिए बस मे चढ़े उन्होंने कंडक्टर को किराए के रुपये दिए और सीट पर जाकर बैठ गए

कंडक्टर ने जब किराया काटकर रुपये वापस दिए तो पंडित जी ने पाया की कंडक्टर ने दस रुपये ज्यादा उन्हें दे दिए है

पंडित जी ने सोचा कि थोड़ी देर बाद कंडक्टर को रुपये वापस कर दूँगा

कुछ देर बाद मन मे विचार आया की बेवजह दस रुपये जैसी मामूली रकम को लेकर परेशान हो रहे है आखिर ये बस कंपनी वाले भी तो लाखों कमाते है बेहतर है इन रूपयो को भगवान की भेंट समझकर अपने पास ही रख लिया जाए वह इनका सदुपयोग ही करेंगे

मन मे चल रहे विचार के बीच उनका गंतव्य स्थल आ गया बस मे उतरते ही उनके कदम अचानक ठिठके उन्होंने जेब मे हाथ डाला और दस का नोट निकाल कर कंडक्टर को देते हुए कहा भाई तुमने मुझे किराए के रुपये काटने के बाद भी दस रुपये ज्यादा दे दिए थे

कंडक्टर मुस्कराते हुए बोला क्या आप ही गाँव के मंदिर के नए पुजारी हो?

पंडित जी को हामी भरने पर कंडक्टर बोला मेरे मन मे कई दिनों से आपके प्रवचन सुनने की इच्छा है आपको बस मे देखातो ख्याल आया कि चलो देखते है कि मैं ज्यादा पैसे लौटाऊँ तो आप क्या करते हो अब मुझे पता चल गया की आपके प्रवचन जैसा ही आपका आचरण है जिससे सभी को सिख लेनी चाहिए

Also Read:  खुद पर विश्वास रखें - Beautiful Motivational Story in Hindi for Success Life

ये बोलकर कंडक्टर ने गाड़ी आगे बड़ा दी

पंडित जी बस से उतरकर पसीना पसीना थे उन्होंने दोनों हाथ जोड़कर भगवान से कहा है प्रभु तेरा लाख लाख शुक्र है जो तूने मुझे बचा लिया मैने तो दस रुपये के लालच मे तेरी शिक्षाओ की बोली लगा दी थी पर तूने सही समय पर मुझे थाम लिया….!


Share this:

Check Also

अहंकार का अंत – Hindi Motivational Story with Moral

पक्षियों की सभा ही रही थी | सभा में तय होना था कि उनका राजा …

One comment

  1. Ye koi motivational story nahi hai. Pandit ji ke mann mein chori ka khyal to aa hi gaya. Paise lotaye lekin kafi der baad. Unhone kafi soch vihar ke baad paise lotaye.

    Maan lijiye ek ghar mein chor ghusta hai lekin bina chori kiye vapis chala jata hai to kya use chor nahi kahenge.

    Aise hi un pandit ji ke mann mein bhi chor to aa hi gaya tha.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *