Thursday , 18 May 2017
Home » Harivansh Rai Bachchan

Harivansh Rai Bachchan

Harivansh Rai Bachchan Poems in Hindi, English Translation | Inspirational Poems, Kavita

अग्निपथ वृक्ष हों भले खड़े, हों घने, हों बड़े, एक पत्र छाँह भी मांग मत! मांग मत! मांग मत! अग्निपथ! अग्निपथ! अग्निपथ! तू न थकेगा कभी, तू न थमेगा कभी, तू न मुड़ेगा कभी, कर शपथ! कर शपथ! कर शपथ! अग्निपथ! अग्निपथ! अग्निपथ!

Read More »

Harivansh Bachchan Poems, Famous Harivansh Rai Bachchan Hindi Poetry

कोशिश करने वालों की – हरिवंशराय बच्चन लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती। नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है, चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है। मन का विश्वास रगों में साहस भरता है, चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है। आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती, कोशिश करने वालों …

Read More »

Hindi Poem by Harivansh Rai Bachchan, Good Hindi Poems, Hindi Poetry

जीवन में एक सितारा था माना बेहद वो प्यारा था यह डूब गया तो डूब गया अम्बर के आनन को देखो कितने इसके तारें टूटे कितने इसके प्यारे छूटे जो छुट गए फिर कहा मिले पर बोलो टूटे तारो पर कब अम्बर शोक मनाता हैं जो बीत गई सो बात गई

Read More »